Thursday, April 21, 2011

सामुदायिक बिस्तर (कम्युनिटी बेड)

             
                                      रात्रि भर की चौकीदारी की थकावट, एक मिनट चैन नहीं। ऐसे में भोर की ठन्डी हवा में कुनबे के साथ कुछ सुकून के कुछ क्षण कितने दुर्लभ होते हैं। फिर इतना ऊँचा, साफ-सुथरा और आराम दायक बिस्तर हो तो गहरी नींद आ ही जाती है। क्या मनुष्य भी सीमित संसाधनो को इसी तरह बाँट सकता है। बस अपनी ज़रूरत भर। ये जीव आपस में लड़ने के लिये बदनाम हैं या आदमियों द्वारा बदनाम किये गये हैं जिससे वो अपनी कमियों पर पर्दा डाल सके या स्वयं को इनसे ऊँचा साबित कर सके?
ये अपनी निद्रा में इतने निमग्न हैं कि किसी के आने जाने या चित्र खींचने से इन्हें कोई व्यवधान नहीं। चाहे तो आप वीडियो ही क्यों न बना लें।

video


                                           ठेलों की इस अपारम्परिक उपयोगिता ने मुझे सुखद विस्मय प्रदान किया इसलिये मन हुआ कि आपसे भी बाँटू और देखूँ कि यह चित्र आपको क्या संदेश देता है। (इस ठेले पर दिन में दाने भूने जायेंगे, मनुष्यों के उपयोग के लिये)

-- अमिताभ त्रिपाठी ’अमित’